Sentence (सेंटेंस) - वाक्य
We use language to exchange messages with others. Every language provides the usage of a collection of words to communicate. Such collection of words that communicate a complete message is known as a sentences.
संदेश के आदान प्रदान के लिये भाषा का उपयोग किया जाता है. हर भाषा में बोलने अथवा लिखने के लिए शब्दों के समूहों का प्रयोग किया जाता है. ऐसे शब्दों के समूह जिनके भाव पूरे हों को हम sentence (वाक्य) कहते हैं.

In a sentence we can mention any person or object and provide a description.
Sentence द्वारा किसी व्यक्ति या वस्तु का उल्लेख करते हैं और उस के सम्बन्ध में कुछ वर्णन करते हैं.

Type of Sentences - वाक्य के प्रकार

Based on the way the words are grouped and their meaning the sentences are classified into 4 sub-groups.
उपयुक्त शब्दों के समूह से जो अर्थ और भाव प्रकट होते हैं उनके आधार पर Sentences को चार वर्गों में वर्गीकृत किया जा सकता है.


Declarative (डिक्लेरेटिव) या
Assertive (ऐसरटिव)
This is a good book.
यह एक अच्छी किताब है.

My house is in Bilaspur.
मेरा घर बिलासपुर में है.
Sentence used to describe something or express acceptance are known as declarative or assertive sentences.
Declarative या assertive sentences उन वाक्यों को कहा जाता जो वर्णन करते या स्वीकृत करते हैं.

Sentences of this type are used to describe something or inform about its status.
इस श्रेणी के वाक्यों से किसी के बारे स्थिति की जानकारी या उसका विवरण मिलता है.
Interrogative (इन्टैरोगेटिव)
What is your name?
आप का नाम क्या है?

Have you done your work?
क्या आप ने अपना काम किया?
Sentence enquire about some or ask a question are known as interrogative sentences.
वह वाक्य जो प्रश्न पूछता है. कोई भी सवाल पूछने वाला वाक्य को Interrogative (इन्टैरोगेटिव) वाक्य होता है. जैसे... An interrogative sentence are also called a question. This type of sentences are used to make an enquiry.
Interrogative वाक्यों को Question (प्रश्न या सवाल) भी कहते हैं. इसका प्रयोग करने वाला कुछ जानना चाहता है.

While writing questions are ended with a question mark (?).
लिखते समय इस श्रेणी के वाक्यों के अंत में question mark (प्रश्न चिन्ह) - ? - लगाया जाता है.
Imperative (इन्पैरेटिव)
Please come home before sunset.
कृपया सूर्यास्त से पहले घर आना.

Complete your work now.
अपना कार्य अभी पूरा करो.
Sentence used to command or request to do something imperative sentences. Imperative वाक्य वह वाक्य है जो आज्ञा या प्रार्थना व्यक्त करे.

This type of sentence is used to tell some one to do something - it could be either a request or a command. Like...
यह वह वाक्य है जो किसी और को कोई कार्य करने के लिये कहता है - कहनेवाला आग्रह सकता या आज्ञा दे सकता. जैसे...

The first sentence shown above is an example of a request while the second is a command. In both cases the speaker is asking someone to do something.
ऊपर के उदाहरण में से एक प्रार्थना है और दूसरा आज्ञा. दोनो ही मामलों में इनके उपयोग से सामने वाले को कुछ करने को कहा गया है.
Exclamatory (ऐक्सक्लेमेटरी)
Yippie! I have won!
यिप्पी! मैं जीत गया!

Oops! I fell!
अर! मैं तो गिर गया!
Sentence that are spontaneous expressions of suddenly experienced emotions of happiness, sorrow etc. are known as exclamatory sentences.
वह वाक्य जो बहुत गहरी या अचानक उठीं भावनाओं को प्रकट करे उसे Exclamatory वाक्य कहते हैं.

The group of words used to express the sentiments when you suddenly receive a good or a bad news. Such sentences are refered to as Exclamatory sentences and at the time of writing are ended with an exclamation mark (!). अचनक मिली खुशी या गम की खबर के भाव को व्यक्त करें के लिये जो शब्दों का समूह उपयुक्त होता है वह Exclamatory वाक्य कहलाता है और लिखते समय इनका अंत एक्सक्लमेशन चिन्ह (!) से किया जाता है.

Parts of Speech - शब्द भेद
The type of sentence depends on the role of the words used in it.
किसी भी वाक्य में प्रयुक्त हो रहे शब्दों का भूमिका तय करती है कि वह वाक्य उपर दिये किस श्रेणी का है. यहाँ हम शब्दों के अलग-अलग.

Experts have classified the role of words into 8 sub-groups and these are known as the parts of speech.
विशेषज्ञों ने 8 शब्द-भेदों को चिन्हित किया है और यहाँ हम इन्हीं शब्द-भेदों के प्रयोगों पर चर्चा करेंगे.

Subject, Object and Verb
कर्ता, कारक और क्रिया

Subject, Object and Verb are three ingredients that form a sentence.
वाक्य निर्माण में प्रयुक्त होने वाली तीन सामग्री है - कर्ता, कारक और क्रिया
  1. Any sentence is about the subject or we can say that the subject is the focus of the sentence.
    कोई भी वाक्य कार्ता (Subhject) के बारे में ही होता है या यह भी कह सकते हैं कि वाक्य का केन्द्र बिंदु कर्ता होता है.
  2. The Object gives information about the what is effected by the action or the state of the subject. You also come across sentences that do not have any object.
    कारक (ojbect) वाक्य का वह हिस्सा होता है जिससे यह पता चलता है कि कर्ता के कार्य या अवस्था का असर किस पर हो रहा है. ऐसे वाक्य भी होते हैं जिनमें कारक नहीं होते.
  3. The Verb describes the action or the state of the subject.
    कर्ता के कार्य या अवस्था की जानकारी क्रिया से मिलती है.
Subjects and Objects are formed using combinations of one or more parts of speech (discussed above).
एक या अधिक शब्द-भेदों के मिश्रण का उपयोग करके ही कर्ता और कारक बनते हैं.

Click here for more on Subjects and Objects.
Subject और Object के बारे में अधिक के लिये यहाँ क्लिक करें.

Simple, Compound and Complex
सरल, संयुक्त और जटिल
Based on its formation, a sentence can be called...
उसकी बनावट के आधार पर, एक वाक्य को कह सकते हैं...
  • Simple Sentence - A Simple Sentence as only one subject and verb.
    सरल वाक्य - एक सरल वाक्य में एक ही कारक और क्रिया होते हैं.
  • Multiple Sentence - When more than one simple sentences are connected together to form a sentence, then it is known as a multiple sentence. The way these sentences are connected together decides whether its a Compound Sentence or a Complex Sentence.
    एकाधिक वाक्य -जब एक से अथिक सरल वाक्यों को जोड़कर एक वाक्य बनाया जाता है तो उस वाक्य को एकाधिक (Multiple) वाक्य कहा जाता है. इन वाक्यों को जोड़ने के तरीके से तय होता है कि वह वाक्य संयुक्त (Compound) वाक्य है या जटिल (Complex) वाक्य.